Domino's se paise kaise Kamaye | डोमिनोज से पैसे कैसे कमाए

 Domino's se paise kaise Kamaye | डोमिनोज से पैसे कैसे कमाए


बीते काफी समय से हम आपके लिए हर तरह की फ्रेंचाइजी से जुड़ी जानकारी लेकर आते रहे हैं। आज भी हम आपको एक बेहद ही पसंद किए जाने वाले पूर्व की फ्रेंचाइजी के बारे में बताएंगे। हम बात कर रहे हैं। पिज़्ज़ा कि वह भी डोमिनोज के बाला डोमिनोस पिज़्ज़ा किसे पसंद नहीं। इसलिए आज हम आपके लिए खाने की नहीं बल्कि इस जमाने की जानकारी लेकर आए तो करते हैं, लेकिन पहले हर बार की तरह थोड़ा सा ज्ञान डोमिनोज से जुड़ा लेने चलें। डोमिनोस पिज़्ज़ा की दूसरी सबसे बड़ी पासपोर्ट कंपनी डोमिनोस पिज़्ज़ा की शुरुआत 1960 में संयुक्त राष्ट्र में उपस्थित ओर से की गई थी। अब यह दुनिया भर में स्वादिष्ट पिज़्ज़ा के लिए लीडिंग ब्रांड बन गया है। डोमिनोस पिज़्ज़ा भारत सहित 70 से ज्यादा देशों में बिजनेस करता है। डोमिनोज कि दुनिया भर में 15000 से ज्यादा विकेट से भारत में ही 550 से अधिक डोमिनोस इसको है और यह भारत की 120 से ज्यादा शहरों में फैले। फिलहाल कंपनी धीरे-धीरे अपने बिजनेस को बढ़ा रही है और इसे बढ़ाने के लिए कंपनी अपनी फ्रेंचाइजी देती है। लेकिन डोमिनोज खुद से अपनी पंचायती नहीं देती है। यह काम जुबिलेंट फूडवर्क्स लिमिटेड डोमिनोज के लिए भारत में करती है। यानी किसी को डोमिनोज की पंचायती लेनी है तो जुबिलेंट फूडवर्क्स लिमिटेड से ली जा सकती है। पर इस फ्रेंचाइजी को लेने के लिए जरूरी क्या है, वह जानते हैं। सबसे पहले तो आपके पास अच्छी काफी जमीन होनी चाहिए। तभी डोमिनोज की फ्रेंचाइजी ली जा सकती है और इसे लेकर आप अपना रेस्टोरेंट ओपन कर पाएंगे क्योंकि इसके अंदर एक अच्छा दोस्त बनाना पड़ता है और अच्छी पार्टी की जगह सही होती है। शादी ls50 फ्रंट में भी अच्छा खासा इस पीस चाहिए होता है। इस लिहाज से देखें तो डोमिनोज रेस्टोरेंट खोलने के लिए 5000 से 10000 स्क्वायर फीट जगह होनी चाहिए। शादी रेस्टोरेंट्स ओपन करने के लिए लोकेशन भी अच्छी होनी चाहिए। इसके अलावा डॉक्यूमेंट एकदम क्लियर होनी चाहिए। यदि जमीन लीज पर ली गई है तो लीज एग्रीमेंट हो। जमीन के ऊपर कोई भी कॉमेंट इशू नहीं होना चाहिए। लोकेशन ऑन रोड होनी चाहिए और कंपनी के नियमों के अनुसार आपकी लोकेशन होनी चाहिए। अब बात आती है पैसा कितना खर्च होगा। सबसे एम बात भी है क्योंकि बिना पैसे तो कोई काम होता नहीं तो बता दे डोमिनोस की फ्रेंचाइजी है तो निवेश तथा नहीं होगा, लेकिन इसमें कुछ पैसा बच भी सकता है। अगर जमीन आपकी अपनी है तो और अगर जमीन आपकी अपनी नहीं है तो बहुत से पैसे लगाने पड़ जाएंगे। उसके बाद रेस्टोरेंट्स के लिए खर्चा करना पड़ेगा और कुछ सिक्योरिटी डिपॉजिट भी देना पड़ेगा। कुल मिलाकर यदि आपके पास कम से कम डेढ़ से दो करो रुपए हैं तो आप डोमिनोस की फ्रेंचाइजी ले सकते। इसलिए आज हम पैसे पर चर्चा कम ही करेंगे क्योंकि जमीन अपनी होने पर जी खर्च काफी हद तक कम हो जाएगा और अगर जमीन अपनी नहीं है तो इसका भी पड़ जाएगा। अब हम आगे बढ़ते हैं। डोमिनो तीन प्रकार की पंचायती देती है और सभी के लिए अलग-अलग इन्वेस्टमेंट। परी है एडिशनल इसको यहां पर डिलीवरी और कैरी आउट सर्विस दी जाती है। दूसरा है non-traditional इसको इसके अंदर डोमिनोज प्रोडक्ट के साथ-साथ आप दूसरे प्रोडक्ट भी भेज सकते हैं और तीसरा है। ट्रांजिशनल स्टोर्स। यह स्टोर्स कुछ सिलेक्टेड मार्केट के अंदर सिलेक्टेड कस्टमर्स के लिए ओपन किए जाते हैं। इन सबके लिए इन्वेस्टमेंट भी अलग तरह की होती है। इन्वेस्टमेंट से जुड़ी सारी जानकारी फ्रेंचाइजी लेते समय कंपनी की ओर से ही आपको दी जाती है। भारत में डोमिनोज कि फ्रेंचाइजी के लिए कुछ साल का एग्रीमेंट होता है जैसे स्टैंडर्ड फ्रेंचाइजी और नॉन्ट्रैडिशनल स्टोर फ्रेंचाइजी की शुरुआत करने के लिए आपको करीबन 10 साल का एग्रीमेंट करना होगा। वहीं चांदी स्वास्थ उसके लिए फ्रेंचाइजी एग्रीमेंट 5 साल का होता है। अब अगर कोई डोमिनोस की फ्रेंचाइजी लेने का मन बनाता है तो पहली कंपनी उचित ट्रेनिंग देती है और उसको कुछ दिन डोमिनोस के अंदर काम भी करना पड़ेगा। उसके बाद कंपनी डोमिनोस की पंचायती भेजी और कम। 


रेस्टोरेंट के अंदर पूरी हेल्प पीकर कैसे डेकोरेशन और इंटीरियर सभी चीजों में कंपनी हेल्प करती है। अब आती है। मुद्दे की बात फ्रेंचाइजी लेने के लिए करना चाहूंगा। सबसे पहले आप जुबिलेंट फूडवर्क्स लिमिटेड की आधिकारिक वेबसाइट यानी www.civilenggforall.com पर जाएंगे। उसके बाद होम पेज पर कांटेक्ट अस का ऑप्शन मिलेगा। उस पर आप क्लिक करेंगे। फिर आपके सामने कंपनी के टोल फ्री नंबर मिल जाएंगे। इनके ऊपर कॉल करके आप अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। बाकी जानकारी के लिए आप कंपनीज ऑफिशल वेबसाइट www.dominos.co.in पर वृद्धि कर सकते हैं। उम्मीद है यह जानकारी आपके काम आए नहीं तो मनोरंजन तो कर ही देगी। 

0/Post a Comment/Comments